Vanchan Vishesh

Daily Vanchan & More Readable at One place Click...

Think and Act :

Congress +Communist = AAP...


See the Background Verification of AAP

1.योगेंदर यादव - सोनिया गांधी की सलाहकार टीम का मेम्बर (NAC -2009-2011)

योगेन्द्र यादव प्रोफाइल उनके विकिपीडिया पर उपलब्ध। देखने के लिए यहाँ क्लिक करें
http://en.wikipedia.org/wiki/Yogendra_Yadav

2.मनीष सिसोदिया- सोनिया गांधी की सलाहकार अरुणा रॉय की टीम का मेंबर (RTI टीम -2005-06)
http://en.wikipedia.org/wiki/Manish_Sisodia

3.गोपाल राय - कम्युनिस्ट स्टूडेंट यूनियन (AISA)की लखनऊ युनिवेर्सिटी का प्रेसिडेंट (AISA1992)
http://en.wikipedia.org/wiki/Gopal_Rai

4.संजय सिंह- समाजवादी पार्टी (मुलायम सिंह यादव) कार्यकारिणी सदस्य (1998-till 2005 )
http://en.wikipedia.org/wiki/Sanjay_Singh_%28activist%29

5. प्रशांत भूषण -कम्युनिस्ट एक्टिविस्ट (नक्सलियों द्वारा भूषण को मध्यस्त बनाने कि मांग-(IBN7 on 24th April 2012 at 9:38 IST )

IBN7 द्वारा भूषण कि नक्सल मध्यस्तता कि न्यूज़ के लिए यहाँ क्लिक करें
http://ibnlive.in.com/news/cant-mediate-with-naxals-on-ias-officers-abduction-prashant-bhushan/251451-3.html

6. शाजिया इल्मी-कांग्रेसी चाचा की भतीजी और जीजा आरिफ खान कांग्रेसी मंत्री रह चुके है.
http://en.wikipedia.org/wiki/Shazia_Ilmi

7. अरविन्द केजरीवाल-कम्युनिस्ट एक्टिविस्ट (सोनिया गांधी कि सलाहकार अरुणा रॉय कि टीम का मेंबर (2005-06)

केजरीवाल का लेफ्ट CONNECTION जानने के लिए The Sunday Gaurdian Newspaper की नीचे लिखी रिपोर्ट देखे
http://www.sunday-guardian.com/analysis/is-arvind-kejriwal-on-the-left-right-or-centre

साथ मैं केजरीवाल का विकिपीडिया भी नीचे देखें और जाने उनका बैकग्राउंड
http://en.wikipedia.org/wiki/Arvind_Kejriwal

अरुणा रॉय- सोनिया गांधी की मुख्या सलाहकार(NAC Member-2004 to till date) और केजरीवाल सिसोदिया को एक्टिविस्ट बनाने वाली। .... अरुणा रॉय ने केजरीवाल कि नौकरी छुड़वाकर उसे अपनी RTI टीम मैं शामिल किया

अरुणा रॉय का विकिपीडिया भी देख लीजिये नीचे। .
http://en.wikipedia.org/wiki/Aruna_Roy

AAP के DNA मैं कांग्रेस + कम्युनिस्ट है, खुद जांच कर लें....Its only for your kind information...

पहले पूरा लेख पढ़ें अगर सहमत हो तभी लाइक अथवा शेयर करें मोदी का विरोध सिर्फ आर्थिक कारणों से हो रहा है,
न की सांप्रदायिक कारणों से ......

जब से अमेरिका यूरोप में यह संकेत गया है की मोदी के सत्ता में आने से सरकारी तौर से भी “भारत निर्मित स्वदेशी” वस्तुओ के उत्पादन और उपयोग पर भारत की जनता द्वारा जोर दिया जायेगा, ये देश मोदी का रास्ता रोकने के लिए मोदी विरोधी शक्तिओ को खूब प्रोत्साहन दे रहे हैं. यदि सिर्फ १ साल तक जमकर विदेशी उत्पादों का बहिष्कार कर दिया जाये तो यूरोप और अमेरिका की मुद्राए रुपये के मुकाबले बहुत निचे आ जायेगे. सिर्फ यही नहीं, यूरोप दुबारा मंदी की जकड में चला जायेगा और अमेरिका यूरोप दोनों जगहों पर बेरोजगारी में बेतहाशा वृद्धि होगी क्योकि तब भारत में सामान का उत्पादन होने से रोजगार भारत वालो को मिलेगा. आज के दिन भारत का सारा रोजगार चीन, अमेरिका और यूरोप चला गया है क्योकि हम सब लोग बाहर देशो में बना सामान खरीद रहे हैं.

 

गुजरात दंगे का प्रचार तो सिर्फ भारत की जनता को मुर्ख बनाने के लिए बार बार किया जाता है, विदेशियों द्वारा मोदी का विरोध का सिर्फ आर्थिक कारन है. भारत में स्विट्जरलैंड के 156 गुना लोग रहते हैं और 121 करोड़ लोग दुनिया में सबसे बड़े ग्राहक है घटिया विदेशी उत्पादों के. आज भारत में 5000 विदेशी कंपनिया 27 लाख करोड़ का बिजिनेस करके हर साल 17 लाख करोड़ रुपये को डालर में बदलकर अपने देश ले जाती है जिससे रुपये निचे जा रहा है.

अर्थक्रान्ति प्रस्ताव के लागू हूने की भनक भी अमेरिका को लग चुकी है जो भारत के लिए अमेरिका की कीमत कम कर देगा. मोदी और डॉ.स्वामी ने बीजेपी सरकार आने पर डालर का भाव 5 साल में 21 रुपये और 10 साल में 10/- रुपये तक लाने की सोच रहे हैं. यदि डालर 10 रुपये हो जाये तो भारत का 46 लाख करोड़ का कर्जा सिर्फ 7 लाख करोड़ ही रह जायेगा जिसे हम एक झटके में दे सकते हैं. 2013 के बजट 17 लाख करोड़ के बजट में से 5.35 लाख करोड़ सिर्फ कर्ज की किश्त देने में ही चला गया जो पुरे बजट का करीब एक तिहाई है सोचो भारत विकास कैसे करेगा.


अमेरिका मोदी को किसी भी हालत में PM बनता नहीं देखना चाहता है क्योकि मोदी के पीछे सभी राष्ट्रवादी खड़े हैं. आने वाले समय में मिडिया मोदी को और भी अनदेखी करेगा और कजरी गिरोह को फोकस करके मोदी की राह रोकने की योजना पर काम करेगा.

 

शेयर करके दूसरो को भी जागरुक करे...

AddThis Social Bookmark Button